-->
कुंडलिनी योग एक प्राचीन कला और विज्ञान है जो चेतना के परिवर्तन और विस्तार से संबंधित है, कुंडलिनी ऊर्जा को जागृत करने के लिए चक्रों को जगाना करना पड़ता है। चक्रों की सक्रियता और संतुलन, प्राण को अपान (ब्रह्मांडीय ऊर्जा) के साथ मिलाने और एकजुट करने से पूरा होता है। कुण्डलिनी को जागने के लिए प्राणायाम, बंध, क्रियाओं, आसनों, मुद्राओं और मंत्रों का उपयोग किया जाता है।

कुण्डलिनी योग - kundalini yoga in hindi

कुंडलिनी योग हिंदू धर्म के शाक्त सम्प्रदाय और तंत्र विद्याओं से प्रभावित है। मंत्र, तंत्र, यंत्र, योग, या ध्यान के नियमित अभ्यास के माध्यम से कुंडलिनी ऊर्जा को जागृत किया जा सकता है । सूक्ष्म ऊर्जा की भागीदारी के कारण, कुंडलिनी योग को योग के सबसे खतरनाक रूप के रूप में पहचाना जाता है।

यह संस्कृत के शब्द कुण्डलिनी से बना जिसका अर्थ गोलाकार या कुंडलाकार से है, जो की सांप के कुंडली बनने से है। कुंडलिनी योग भक्ति योग (भक्ति और जप का योगाभ्यास), राज योग (मध्यस्थता / मानसिक और शारीरिक नियंत्रण का अभ्यास) और शक्ति योग, (शक्ति और ऊर्जा की अभिव्यक्ति के लिए) का मिश्रण है।

कुण्डलिनी योग के आधुनिक रूप

स्वामी निगमानंद

स्वामी निगमानंद परमहंस का जन्म 18 अगस्त 1880 को बंगाल के कुतबपुर के गांव में हुआ। वह शक्ति पंथ से जुड़ा हुआ थे, उन्हें तंत्र, ज्ञान, योग और भक्ति के सिद्ध आध्यात्मिक गुरु के रूप में देखा जाता था।

निगमानंद ने चार अलग-अलग साधनाओं (आध्यात्मिक विषयों) में सिद्धी प्राप्त की जिसमे तंत्र, ज्ञान, योग । इन अनुभवों के आधार पर, उन्होंने पाँच बंगाली भाषा की पुस्तकें लिखीं: ब्रह्मचर्य साधन, योगी गुरु , ज्ञानी गुरु , तांत्रिकगुरु, और प्रेमिकगुरु।

कुंडलिनी का विकास तंत्र के एक हिस्से के रूप हठ योग में किया गया। स्वामी निगमानंद ने लय योग की रचना की, जो की हठ योग का हिस्सा नहीं था। शिवानंद ने 1935 में इस विषय पर अपनी पुस्तक "कुंडलिनी योग" को पेश किया । इस पुस्तक में कुंडलिनी योग के बारे में गहराई से विवरण बताया और हठप्रदीपिका, सत चक्र निरूपण जिसे हठ शिक्षाओं के पुराने स्रोतों शामिल किया। हिंदू-पुनरजीवन और नव-हिंदूवाद की अन्य धाराओं के साथ, कुंडलिनी योग 1960 से 1980 के दशक में पश्चिम में लोकप्रिय हो गया।

योगी भजन

हरभजन सिंह खालसा जिन्हें योगी भजन के नाम से भी जाना जाता है, का जन्म 26 अगस्त, 1929 को पंजाब के प्रांत (अब पाकिस्तान) में, गुजराँवाला जिले के कोट हरकर्ण में एक सिख परिवार में हुआ था। 1968 में हरभजन सिंह खालसा ने कुंडलिनी योग को अमेरिका में पेश किया । योगी भजन ने एक संगठन की स्थापना की जिसका नाम 3HO रखा । योगी भजन ने योग मुद्राओं को तांत्रिक सिद्धांतों और सिख मंत्रों से जोड़ा और 'कुंडलिनी योग" के एक नए रूप का संश्लेषण किया।

कुण्डलिनी योग वीडियो | Kundalini Yoga Video

0 टिप्पणियां