-->
बादाम तेल के फायदे - Badam Tel Ke Fayde

बादाम का तेल आमतौर पर त्वचा और बालों की देखभाल में उपयोग किया जाता है, लेकिन कम ही लोगों को पता है कि यह आपके स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा है। बादाम का तेल,  विटामिन E और विटामिन K का एक बढ़िया  स्रोत है । आइये बादाम तेल के लाभ जानते…

वायु मुद्रा के लाभ - vayu mudra ke labh

वायु मुद्रा, शरीर में वायु तत्व का प्रतीक है। इसे तर्जनी ऊँगली को अंदर की और मोड़ कर अंगूठे से दबाकर किया जाता है। यह मुद्रा, शरीर के अंदर हवा की गति को नियंत्रित करता है। वायु मुद्रा के असंतुलन से संबंधित समस्याओं को वायु मुद्रा …

ज्ञान मुद्रा के लाभ - Gyan Mudra Ke Labh

ज्ञान मुद्रा अंगूठे और तर्जनी की एक स्थिति है जो सर्वोच्च ज्ञान के संकेत को दर्शाती है। चूंकि यह हाथों की मदद से अभ्यास किया जाता है इसलिए यह एक प्रकार हस्त मुद्रा है। हठ योग में, ज्ञान मुद्रा को सबसे प्रभावशाली हस्त मुद्रा के रू…

मकरासन योग - Makarasana

मकरासन आरामदायक योग आसन में से एक है जो की पीठ और कंधे की समस्याओं के लिए लाभदायक है ।यह  शवासन के विकल्प के तौर पर भी उपयोग किया जा सकते है, जिसमे पूरा शरीर विश्राम की अवस्था में होता है।  मकरासन का उद्देश्य अन्य योग आसनों का…

जानुशिरासन - Janusirsasana

जानुशिरासन करने की विधि | Janusirsasana Karne Ki Vidhi अपनी दायीं टांग बाहर की ओर फैला दें, पंजा बाहर की ओर खिंचा हुआ। दायीं टांग को मोड़कर उसका पंजा बायीं जांघ से इस प्रकार मिलाएं कि एड़ी गुदा के साथ लगे, दायां घुटना जमीन के …

नौलि क्रिया - Nauli Kriya

नौली क्रिया करने की विधि | Nauli Kriya Karne Ki Vidhi दोनों पांवों में एक फुट का अंतर व पांवों को समानांतर रखकर खड़े हो जाएं। दोनों हाथों को घुटनों के कुछ ऊपर जंघाओं पर रखें। पहले उड्डियान बंध का अभ्यास करें। श्वास को पूर्णत: …

बस्ति क्रिया (एनिमा) - Basti Kriya

नाभि तक जल में खड़े होकर या एक हाथ गहरे पानी में उत्कटासन में बैठकर, गुदा पर रबड़ या पतली बांस की नली लगाकर, उड्डियान बंध करते हुए पानी को बड़ी आंत में चढ़ाकर, फिर पेट को हिलाकर नौलि क्रिया करके पानी को गुदा द्वारा बाहर निकाल देन…