यदि आप योग मे एकदम नये हैं, तो यह कुछ योगासन करने की विधि चित्र सहित जो आपको शुरुवात करने में मदद करेगा । यह नौसिखियों के लिए योग के सबसे अच्छे आसन है, जिन्होंने पड़ने के बाद आप भी घर पर स्वयं अभ्यास कर सकगे ।

विभिन्न प्रकार के योगासन करने की विधि | नौसिखियों के लिए योग

अधोमुखश्वानासन

 अधोमुखश्वानासन करने की विधि और फायदे

बहुत ही लोकप्रिय, जिसे डाउनवर्ड फेसिंग डॉग पोज़ के रूप में भी जाना जाता है, यह तनाव को दूर करने में मदद करता है । दोनों हाथों और पैरों के बल आये धीरे धीरे कूल्हों को ऊपर उठे और घुटनो को सीधा करे। मुद्रा में प्रवेश करने से पहले, मुद्रा के दौरान, और मुद्रा छोड़ने के बाद अपनी सांस पर ध्यान दें। अधोमुखश्वानासन करने की विधि और फायदे को जानने के लिए क्लिक करे।

ताड़ासन

विस्तार से पढ़ें ताड़ासन योग के बार मे
ताड़ासन सभी स्थायी योग का आसन का आधार है। पैरों को जोड़ कर खड़े हो जाये, कंधे को आराम दे। एक गहरी साँस लें और अपने हाथों को ऊपर की ओर उठाएँ, हथेलियाँ एक दूसरे के सामने और हाथों को ऊपर और सीधा रखे। विस्तार से पढ़ें ताड़ासन योग के बार मे।

वृक्षासन

वृक्षासन के लाभ और सावधानी

वृक्षासन मे एक पैर पर खड़े होकर शरीर को संतुलित करते हुए सांस लेना होता हैं।
  • अपने पैरों के बल खड़े होजाये और अपने दाहिने पैर को अपनी बाईं ऊपरी जांघ पर रखें।
  • अपने हाथों को प्रार्थना मे लाये और स्थिर मुद्रा मे 30 सेकंड तक रहें।
  • विपरीत पैर में दोहराएं।
विस्तार से पढ़ें वृक्षासन के लाभ और सावधानी।

भुजंगासन

भुजंगासन का चित्र

जिसे आमतौर पर कोबरा पोज के रूप में जाना जाता है । संस्कृत में, भुजंगासन का अर्थ है सर्प मुद्रा, क्योंकि इसे अभ्यास करने शरीर सांप जैसा देखती है।

यह विशेष मुद्रा शुरुआती लोगों के लिए बहुत अच्छा है और सूर्य नमस्कार अनुक्रम हिसा भी है।

भुजंगासन कैसे करे ? और फायदे पड़ने के लिए लिंक पर जाये ।

वज्रासन



भोजन के 15 मिनट बाद वज्रासन का अभ्यास करें, दिन में कम से कम दो बार करें, इससे आपकी पाचन शक्ति बढ़ती है और पाचन संबंधी सभी विकार ठीक हो जाते हैं। आप इसे भोजन से 15 मिनट पहले भी कर सकते हैं, जिससे मोटापा कम होता है। वज्र का संस्कृत मे मतलब है हीरा और सबसे मजबूत सामग्री है, मानव शरीर में एक नाड़ी है जिसे वज्र नाड़ी के नाम से जाना जाता है, जो जननांग अंगों से संबंधित है, वज्रासन इस नाड़ी को सशक्त बनाता है ।

वज्रासन कैसे किया जाता है , लाभ और सावधानियों को जाने के लिए लिंक पर क्लिक करे।

बालासन

बालासन
बालासन में, आप अपने ऊपरी शरीर के साथ अपने घुटनों के बल आगे की ओर बैठते हैं, जिससे आपका माथा  चटाई पर लगता है। यदि आप घुटने की समस्याओं से पीड़ित हैं, तो आपको बालासन को करते समय सावधान रहना चाहिए क्योंकि यह आपके घुटनों पर बहुत दबाव डालता है ।

0 टिप्पणियाँ