-->
योग एक प्राचीन भारतीय अभ्यास है जो शारीरिक, मानसिक और आत्मिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है। इसे रोजाना करने से कई फायदे होते हैं। यहां कुछ ऐसे योगासन और प्राणायाम बताए जा रहे हैं जिन्हें आप रोजाना कर सकते हैं।

रोज करने वाले योगासन


ताड़ासन 

एक सरल योगासन है जिसे रोजाना करना बहुत लाभकारी है।

करने की विधि:
  • सीधे खड़े हो जाएं और अपने पैरों को साथ रखें।
  • अपने हाथों को शरीर के साथ रखें और धीरे-धीरे अपने हाथों को ऊपर उठाएं।
  • अपने हाथों को सिर के ऊपर जोड़ें और अपनी एड़ियों पर खड़े हो जाएं।
  • गहरी सांस लें और अपनी रीढ़ को सीधा रखें।
लाभ:
  • शरीर का संतुलन बेहतर होता है।
  • मांसपेशियों की मजबूती बढ़ती है।
  • शरीर में लचीलापन आता है।

वृक्षासन

वृक्षासन शारीरिक और मानसिक संतुलन को बढ़ाता है।

करने की विधि:
  • सीधे खड़े हो जाएं और अपने दाएं पैर को उठाकर बाएं पैर की जांघ पर रखें।
  • अपने हाथों को प्रार्थना मुद्रा में जोड़ें और अपनी छाती के सामने रखें।
  • संतुलन बनाए रखें और गहरी सांस लें।
लाभ:
  • एकाग्रता और संतुलन में सुधार होता है।
  • पैरों की मांसपेशियों को मजबूत करता है।
  • आत्मविश्वास बढ़ाता है।

अधोमुखश्वानासन

यह आसन पूरे शरीर को स्ट्रेच करने में मदद करता है।

करने की विधि:
  • अपने हाथों और घुटनों पर आ जाएं।
  • अपने घुटनों को ऊपर उठाएं और अपने कूल्हों को ऊपर की ओर उठाएं।
  • अपने हाथों और पैरों को सीधा रखें और सिर को नीचे की ओर झुकाएं।
  • गहरी सांस लें और इस स्थिति में कुछ समय तक रहें।
लाभ:
  • रक्त प्रवाह में सुधार होता है।
  • हाथों, पैरों और रीढ़ की हड्डी को मजबूत करता है।
  • तनाव और चिंता को कम करता है।

भुजंगासन

भुजंगासन पीठ और रीढ़ की मजबूती के लिए उत्कृष्ट है।

करने की विधि:
  • पेट के बल लेट जाएं और अपने हाथों को कंधों के नीचे रखें।
  • अपने हाथों की मदद से छाती को ऊपर उठाएं।
  • सिर को पीछे की ओर झुकाएं और गहरी सांस लें।
लाभ:
  • रीढ़ की हड्डी को मजबूत करता है।
  • तनाव को कम करता है।
  • फेफड़ों और छाती को खोलता है।

वज्रासन

वज्रासन पाचन को सुधारने के लिए बहुत अच्छा होता है।

करने की विधि:
  • अपने घुटनों को मोड़कर बैठें और अपने कूल्हों को एड़ियों पर रखें।
  • अपने हाथों को घुटनों पर रखें और रीढ़ को सीधा रखें।
  • गहरी सांस लें और आराम से बैठें।
लाभ:
  • पाचन में सुधार होता है।
  • ध्यान और मेडिटेशन के लिए उपयोगी है।
  • घुटनों और जांघों की मांसपेशियों को मजबूत करता है।

प्राणायाम

प्राणायाम से मानसिक शांति और शारीरिक ऊर्जा बढ़ती है।

करने की विधि:
  • किसी आरामदायक स्थिति में बैठें और आंखें बंद करें।
  • गहरी सांस लें और धीरे-धीरे छोड़ें।
  • इसे कुछ मिनटों तक करें।
लाभ:
  • मानसिक शांति और एकाग्रता बढ़ती है।
  • फेफड़ों की क्षमता में सुधार होता है।
  • तनाव और चिंता को कम करता है।
रोजाना योग करने से शारीरिक, मानसिक और आत्मिक स्वास्थ्य में सुधार होता है। उपरोक्त योगासन और प्राणायाम को अपने दैनिक दिनचर्या में शामिल करें और स्वस्थ जीवन का आनंद लें। नियमित अभ्यास से आपको सकारात्मक परिणाम मिलेंगे और आपका संपूर्ण स्वास्थ्य बेहतर होगा।